संक्रमण तत्व व संक्रमण तत्व के भाग

संक्रमण तत्व व संक्रमण तत्व के भाग


संक्रमण तत्व ( Transition Elements ) :- आवर्त सारणी में S तथा d-block के तत्वों को जोड़ने वाले तत्व , संक्रमण तत्व कहलाते हैं | आधुनिक परिभाषा के अनुसार वे तत्व जिनमे अवस्था में या उस तत्व की किसी सामान्य ऑक्सीकरण अवस्था में d- या f- उपकोश आंशिक रूप से भरे जाए , संक्रमण तत्व कहलाते हैं |

इलेक्ट्रॉनीय विन्यासो के आधार पर इन तत्वों को दो मुख्य भागों में विभाजित किया गया हैं -

1. मुख्य संक्रमण तत्व :- इनका सामान्य इलेक्ट्रॉनीय विन्यास ( n - 1 ) d 1 - 9 ns 1 - 2 होता हैं | आवर्त सारणी के d - ब्लाक के तत्वों में Zn , Cd तथा Hg को छोड़कर शेष सभी तत्व मुख्य संक्रमण श्रेणी में आते हैं | इन तत्वों को चार श्रेणियों में विभाजित किया गया हैं -
(a)प्रथम या 3d संक्रमण श्रेणी - Sc से Cu तक |
(b) द्वितीय या 4d संक्रमण श्रेणी - Y से Ag तक |
(c) तृतीय या 5d संक्रमण श्रेणी - La से Hf से Au तक |
(d) चतुर्थ या 6d संक्रमण श्रेणी - A , Rf , Ha |

2. आन्तरिक संक्रमण तत्व :- इन तत्वों का सामान्य इलेक्ट्रॉनीय विन्यास ( n - 2 ) f 1 -14 ( n - 1 ) s 2 ( n - 1 ) p 6 ( n - 1 ) d 0 - 1 ns 2 होता हैं | इन तत्वों में अंतिम इलेक्ट्रान , अंतिम दो कोशो से पूर्व कोश में उपकोश में भरे जाते हैं |
आवर्त सारणी के Six आवर्त में La ( 57 ) के पश्चात् चोदह तत्व Ce से Lu तक इलेक्ट्रान 4f- उपकोश में भरे जाते हैं | इस श्रेणी को लैन्थेंनाइड श्रेणी कहते हैं | इसी प्रकार सातवे आवर्त में Ac ( 89 ) के बाद चोदह तत्व Th से La तक 5f-उपकोश में भरे जाते हैं | तत्वों की इस श्रेणी को एक्टिनाइड श्रेणी कहते हैं |
Zn , Cd व Hg को संक्रमण तत्व नहीं माना जाता हैं क्योंकि इनमे d- कक्षक पूणतया भरे हुए होते हैं , इन्हें d - खण्ड तत्व कहते हैं |
Zn ( 30 ) = 3d10 , 4s 2
Cd ( 48 ) = 4d10 , 5s 2
तथा
Hg ( 80 ) = 5d10 , 6s2 विन्यास रखते हैं |

Post a comment

0 Comments