प्रधानमंत्री जन-धन योजना ( Pradhan Mantri Jan Dhan Yojana )

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 28 अगस्त 2014 को प्रधानमंत्री जन धन योजना का शुभारंभ किया प्रधानमंत्री ने इस अवसर को "विषम चक्र से गरीबों की आजादी का पर्व" करार दिया। देश में व्याप्त वित्तीय असमानता को समाप्त करने के उद्देश्य से "प्रधानमंत्री जन धन योजना" की शुरुआत की गई इस योजना के तहत देश के सभी परिवारों को बैंक खाते से जोड़ना है ।

योजना से संबंधित मुख्य तथ्य -

प्रत्येक परिवार में एक बैंक खाते के साथ उन्हें बैंकिंग तंत्र से जोड़ना ।

हर खाते के साथ खाताधारक का ₹100000 का दुर्घटना बीमा एवं "रुपे" डेबिट कार्ड की सुविधा ।

26 जनवरी 2015 से पूर्व बैंक खाता खुलवाने वालों को एक लाख के दुर्घटना बीमा के साथ ही 30000 का जीवन बीमा मुफ्त ।

प्रधानमंत्री द्वारा राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में इस योजना के शुभारंभ के साथ पूरे देश में 20 मुख्यमंत्री ने एक साथ इस योजना की शुरुआत की ।

कई केंद्रीय मंत्रियों और सांसदों ने भी अपने-अपने क्षेत्र में इस योजना की शुरुआत की ।

शुभारंभ के दिन पूरे देश में 600 समारोह आयोजित किए गए और 77852 शिविर लगाए गए |

इस योजना में बिना इंटरनेट वाले मोबाइल से भी बैंकिंग सेवा की सुविधा ।

6 महीने खाता संचालन के बाद ₹5000 के ओवरड्राफ्ट की सुविधा ।

इस योजना के तहत 26 जून 2015 तक 7 - 5 करोड़ बैंक खाते खोलने का लक्ष्य ।

11 जनवरी 2017 तक इस योजना के अंतर्गत कुल 26.68 करोड लोगों ने विभिन्न बैंकों में खाते खुलवाए हैं ।

11 जनवरी 2017 तक इन सभी खातों में 69027.17 करोड़ रुपए जमा किए गए ।

21 करोड़ कार्ड जारी किए गए |

Post a Comment

0 Comments