क्रिया विशेषण और उनके भेद

क्रिया विशेषण और उनके भेद

क्रिया विशेषण और उनके भेद

क्रिया विशेषण की परिभाषा →

क्रिया और विशेषण दो शब्दों से मिलकर बना है जिसका अर्थ हैं - " क्रिया की विशेषता बताने वाले शब्द "
Example
⚹ चुपचाप बैढ़ना ।
⚹ नजदीक आना ।
⚹ तेजी से दौड़ना ।

क्रिया विशेषण के भेद →

क्रिया विशेषण के चार भेद होते हैं-
(1). रीतिवाचक क्रिया विशेषण |
(2). कालवाचक क्रिया विशेषण |
(3). स्थानवाचक क्रिया विशेषण |
(4). सम्बंधवाचक क्रिया विशेषण|

(1). रीतिवाचक क्रिया विशेषण →

जिन शब्दों से क्रिया होने के विभिन्न तरीकों का बोध हो उसे रीतिवाचक क्रिया विशेषण कहते है।
Example
⚹ शिघ्रता से जाओ।
⚹ धीरे बोलो |
⚹ मूर्ख जैसी बातें करते हों ।

(2). कालवाचक क्रिया विशेषण →

जिन शब्दों से क्रिया के काल का बोध हो उसे कालवाचक क्रिया विशेषण कहते हैं |
Example
⚹ परसों से वर्षा हो रही हैं ।
⚹ प्राचीन मूर्तियाँ मिली ।
⚹ आज छुट्टी हैं ।
⚹ क्षण भर में लिख लिया ।

(3). स्थानवाचक क्रिया विशेषण →

जिन शब्दों द्वारा क्रिया के होने का स्थान पता चले वहाँ स्थानवाचक क्रिया विशेषण होता हैं|
Example
⚹ जमीन पर रखें ।
⚹ वहाँ मत जाना ।
⚹ शहर में भीड़ लग गई ।

(4). सम्बंधवाचक क्रिया विशेषण →

जिन शब्दों द्वारा दो व्यक्तियो या वस्तुओ में क्रिया का सम्बंध स्थापित हो संबंधवाचक क्रिया विशेषण कहलाता हैं ।
Example
⚹ उसने बालक को मिठाई दी ।
⚹ राम की माता खाना बना रही हैं ।
⚹ हमनें भिखारी को दान दिया ।


Post a comment

0 Comments